Breaking News

उत्तराखंड” में नहीं थम रहा ट्रेन में शव मिलने का सिलसिला, अब संपर्क क्रांति एक्सप्रेस में शव मिलने से हड़कंप; शव के मुंह-नाक से निकल रहा था खून, पढ़िए पूरा मामला।

Share

ख़बर पड़ताल ब्यूरो:- उत्तराखंड में ट्रेन में शव मिलने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है, बता दें की संपर्क क्रांति एक्सप्रेस में शव मिलने से सनसनी मच गई, जानकारी के मुताबिक एक यात्री मुरादाबाद से रेलवे इमरजेंसी में शिकायत करता हुआ चला आ रहा था कि ट्रेन में डेड बॉडी है. यात्री का आरोप है कि लगातार तीन स्टेशनों मुरादाबाद, रामपुर और रुद्रपुर में आरपीएफ ने उनकी शिकायत नहीं सुनी. लालकुआं में गार्ड ने शव को ट्रेन से निकाला. लोगों का कहना है कि अगर समय पर रेलवे ने शिकायत का संज्ञान लिया होता, तो शायद उस शख्स की जान बचाई जा सकती थी….

दिल्ली से काठगोदाम आ रही संपर्क क्रांति एक्सप्रेस ट्रेन के एक कोच में लाश मिलने से हड़कंप मच गया. सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची जीआरपी ने शव को कब्जे में लेकर हल्द्वानी मोर्चरी भेज दिया है. घटना मंगलवार दिन रात की बताई जा रही है. संपर्क क्रांति ट्रेन रात करीब 10:00 बजे लालकुआं रेलवे स्टेशन पर पहुंची।

जीआरपी के मुताबिक लाश ट्रेन के कोच एक यात्री को दिखी. उस यात्री ने मुरादाबाद में रेलवे के इमरजेंसी नंबर 139 में सूचना देकर बताया कि उनके कोच में एक शव पड़ा है. परंतु मुरादाबाद में आरपीएफ ने उसकी सुध नहीं ली. इसके बाद रामपुर आरपीएफ और रुद्रपुर आरपीएफ ने भी यात्री की शिकायत पर कोई आवश्यक कदम नहीं उठाया।

इसके बाद रेलगाड़ी जब लालकुआं पहुंची, तो यहां ट्रेन के गार्ड ने मेमो देकर लाश को लालकुआं आरपीएफ के सुपुर्द कर दिया. इसके बाद उक्त लाश को राजकीय रेलवे पुलिस अपने साथ ले गई. जीआरपी ने कोच में पूछताछ करते हुए शव के शिनाख्त के प्रयास शुरू कर दिए. काफी प्रयास के बाद मृतक की शिनाख्त मोहल्ला बंजारन थाना नवाबगंज बरेली उत्तर प्रदेश निवासी मोहम्मद मुस्तकीम पुत्र अलीम के रूप में हुई।

इसके बाद जीआरपी ने शव को हल्द्वानी मोर्चरी में भिजवा दिया. बताया जा रहा है कि मुस्तकीम के मुंह एवं नाक से खून बह रहा था. जीआरपी के मुताबिक पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत के सही कारणों का पता चल सकेगा. यात्रियों का कहना था कि यदि मुरादाबाद या रामपुर में रेलवे प्रशासन अचेत व्यक्ति का संज्ञान ले लेती, तो शायद उसकी जान बचाई जा सकती थी।

रिपोर्ट: साक्षी सक्सेना 


Share