12.4 C
Rudrapur
Wednesday, February 28, 2024
spot_img
spot_img

*इंडियन आर्मी से प्रेम की अनूठी मिशाल! इस व्यक्ति ने पुलवामा में शहीद हुए 40 जवानों के नाम अपने शरीर पर गुदवाए; देखकर तारीफ करते नहीं थकेंगे आप…*

Must read

हमारे आस पास से बहुत से लोग होते हैं, जो किसी व्यक्ति विशेष या फिर अपने देश, देश की सेना, पुलिस, संत, नेता, अभिनेता के प्रति अपना प्रेम अलग अलग तरीकों से जाहिर करते हैं और दिखाते हैं, आज हम आपको एक ऐसे इंडियन आर्मी प्रेमी के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसने पुलवामा अटैक में शहीद हुए हमारे देश के वीर जवानों के नाम गुदवाए हैं, वैसे तो आमतौर पर देखा जाता है कि हर व्यक्ति अपने चाहने वालों या फिर अपना नाम अपने शरीर पर गुदवाते हैं. 14 फरवरी को वेलेंटाइन डे के रूप में मानते हैं. लेकिन यह देश के लिए एक काला दिन भी है क्योंकि इसी दिन 14 फरवरी 2019 को भारत मां के 40 जवान जम्मू कश्मीर के पुलवामा अटैक में शहीद हुए थे, जिससे पूरा देश आहत हुआ. भीलवाड़ा के एक जिंदादिल व्यक्ति ने 40 जवानों की शहादत को अपने दिल के पास रखे हुए है…

रिपोर्ट: साक्षी सक्सेना 

राजस्थान के भीलवाड़ा जिले के अगरपुरा गांव के रहने आले नारायण ने बड़े अनोखे ढंग से पुलवामा हमले में शहीद हुए 40 जवानों को श्रद्धांजलि दी है. इसके तहत उन्होंने अपनी पीठ पर देश के असली हीरो, शहीद जवानों के नाम गुदवाए हैं. इसके साथ ही उन्होंने अपनी पीठ पर तिरंगा और शहीद स्मारक और सीने पर युवा की शान भगत सिंह की तस्वीर गुदवाई है. भीलवाड़ा के नारायण देश भक्ति की अनूठी मिसाल पेश कर रहें हैं और यह युवाओं के लिए एक प्रेरणा भी बन गए है।

14 फरवरी 2019 को हुआ था हमला

नारायण कहते हैं कि 14 फरवरी 2019 को शाम को जब हमने यह खबर सुनी की जम्मू कश्मीर के पुलवामा अटैक में हमारे देश के करीब 40 जवान शहीद हो गए हैं. इसके बाद मुझे पूरी रात नींद नहीं आई. मैंने सोचा कि मैं हर एक शहीद के अंतिम संस्कार में जा सकूं. 14 फरवरी को हर कोई व्यक्ति प्रेम का दिवस मनाता है लेकिन इस प्रेमी ने देश की सुरक्षा और सुरक्षा के लिए अपनी जान तक परवाह नहीं की और खुशी-खुशी अपनी जान दे दी। देश के सैनिक से बड़ा प्रेमी कोई नहीं हो सकता है. मैंने निर्णय लिया कि मैं इन सभी 40 शहीदों का नाम अपने शरीर पर गुदवाउंगा. जब तक मैं जिंदा रहूंगा इन सभी देश प्रेमी और 40 जवानों के नाम मेरे शरीर पर जिंदा रहेंगे और उन्हें हमेशा याद करते रहेंगे की कैसे उन्होंने अपने देश के लिए जान दी है। नारायण कहते हैं कि आजकल हम फिल्मों में हीरो देखते हैं वह हीरो नहीं है असल जिंदगी में हीरो देश का सैनिक है जो हमारी रक्षा के लिए तन मन से हमेशा लगे रहते है और देश की रक्षा के लिए अपने प्राण न्योछावर करने के लिए एक बार भी नहीं सोचते है. देश के जवान ही असल जिंदगी में एक रियल हीरो हैं. वैलेंटाइन डे को इन देशभक्तों के नाम करना चाहिए क्योंकि यह इसके सच्चे काबिल है।

जानें क्या-क्या है शरीर पर लिखा

भीलवाड़ा जिले के रहने वाले नारायण ने पुलवामा शहीद जवानों के साथ एक लाइन भी लिखी है जिसमें उन्होंने कहा है कि ‘एक विचार विश्वास बदल सकता है’ और इसके साथ ही उन्होंने तिरंगे झंडे और शहीद स्मारक भी अपनी पीठ पर गुदवाया हुआ है और यही नहीं आज के दौर में युवाओं के लिए देशभक्ति का प्रतीक भगत सिंह का भी तस्वीर अपने सीने पर गुदवा रखी है।

spot_img
- Advertisement -spot_img

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

Latest article