Sunday, September 24, 2023
Home Uttarakhand बड़ी खबर: 24 घंटे में हजरत पीर गैब अली शाह की दरगाह...

बड़ी खबर: 24 घंटे में हजरत पीर गैब अली शाह की दरगाह को हटाने का नोटिस, मचा लोगों में हड़कंप; बोले- शादाब शम्स सीएम धामी से करेंगे बात….

उत्तराखंड: प्रदेश में सरकारी जमीन पर हुए धार्मिक और झुग्गी झोपड़ियों को लगातार हटाया जा रहा है। बता दें की अब तक 3 हजार से भी ज्यादा मंदिर, दरगाह, और अन्य अतिक्रमण को हटा दिया गया है बता दें की अब रडार पर रुड़की में स्थित पिरान कलियर में दोनों गंगनहरों के बीच स्थित हज़रत पीर गैब अली शाह की दरगाह है। बता दें की इस दरगाह को यूपी सिंचाई विभाग ने 24 घंटे में हटाने का नोटिस चस्पा किया है। जिससे लोगों में हड़कंप मच गया। साथ ही अकीदतमंदों में रोष व्याप्त हैं। वहीं दरगाह के खादिम (सेवादार) दरगाह को सैकड़ों सालों से स्थापित होने की बात कहते हुए नोटिस का विरोध कर रहे हैं। वहीं उत्तर प्रदेश सिंचाई विभाग तृतीय ऊपरी खंड गंगनहर रुड़की की ओर से पिरान कलियर की प्रमुख दरगाहों में शामिल दोनों गंगनहरों के बीच स्थित हजरत पीर गैब अली शाह की दरगाह पर नोटिस चस्पा किया है। नोटिस में लिखा है कि हाईकोर्ट के निर्देश पर उत्तराखंड लोक मार्गों, लोक पार्कों एवं अन्य लोक स्थानों, सार्वजनिक स्थलों/ मार्ग/ नहर पर व्यवसायिक आड़ में अनाधिकृत धार्मिक संरचना को हटाने, पुनर्स्थापित करने स्थापित करने तथा नियमितीकरण नीति में 2016 के क्रम में सेवादारों को धार्मिक संरचना (दरगाह) को 24 घंटे में स्वयं हटाने के लिए दरग़ाह पर नोटिस चस्पा किया है।

 

वहीं सेवादार रशीद, शाबाज, आफाक आदि ने मीडिया से बातचीत में बताया कि पिरान कलियर की प्रमुख दरगाहों में हजरत पीर गैब अली शाह की दरगाह भी शामिल हैं। यह दरग़ाह सैकड़ों साल पुरानी है। पूर्वजों के मुताबिक अंग्रेजों के जमाने से इसी स्थान पर स्थापित है। उन्होंने बताया कि यहां पर उनके पूर्वजों की कई पीढि़यां सेवादार के रूप में सेवा करते चली आ रही है और उत्तर प्रदेश के समय में उनके पूर्वजों ने जब इस दरग़ाह की मरम्मत का कार्य शुरू किया तो उस दौरान भी सिंचाई विभाग के अधिकारियों ने रोकने का प्रयास किया था। लेकिन उस समय तत्कालीन सिंचाई मंत्री डॉ पृथ्वी सिंह विकसित ने सेवादारों को एक आदेश देकर नक्शा बनाकर दिया था जो आज भी उनके पास सुरक्षित मौजूद है। इसी को लेकर वह जिलाधिकारी और मुख्यमंत्री से मिलेंगे।

 

वहीं शाह अली एजाज साबरी, सज्जादानशीन दरगाह साबिर पाक ने कहा की हजरत पीर गैब अली शाह की दरग़ाह सैकड़ों साल पुरानी है। इस दरगाह से करोड़ों लोगों की आस्था जुड़ी हुई है। यहां पर सभी धर्मों के लोग अपनी मुरादें मांगते हैं। नोटिस गलत चस्पा किया गया हैं। वह इसकी कड़ी निंदा करते हैं।

 

इसके साथ ही अनुज बंसल, एसडीओ यूपी सिंचाई विभाग ने कहा की जिलाधिकारी हरिद्वार के निर्देश पर नोटिस चस्पा किया गया। नोटिस में 24 घंटे का समय दिया गया है।

 

 

वहीं उत्तराखंड वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष शादाब शम्स ने इस पर कहा कि इसकी देखरेख कर रहे लोगों ने सैकड़ों साल पुरानी दरग़ाह की कोई कमेटी नहीं बनाई है और निजी स्वार्थ के चलते वक्फ बोर्ड में दर्ज नहीं कराई। इसे वैध नहीं कराया है। वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष के नाते हमारे पास क्या है। इसे बचाने के लिए वह मुख्यमंत्री और अधिकारियों से बात करेंगे कि यह दरगाह पौराणिक है। इनकी मान्यता है। सैकड़ों साल पुरानी संपदा है। जिनके साक्ष्य मौजूद है। यह अवैध नही है। जितनी भी पुरानी दरग़ाह हैं उन्हें वक्फ बोर्ड में दर्ज कराया जाए। विश्व प्रसिद्ध पिरान कलियर में देश ही नहीं बल्कि विदेशों से भी लोग यहां जियारत के लिए अपनी मुरादें लेकर पहुंचते हैं। कलियर में सूफीइज्म का बड़ा मरकज है। पिरान कलियर में हजरत अलाउद्दीन अली अहमद साबिर पाक के अलावा ईमाम साहब, किलकिली साहब, हजरत पीर ग़ैब अली शाह और अब्दाल साहब की दरगाह भी है। यहां पहुंचने वाले जायरीन पांचों दरगाहों पर जियारत करते हैं।

 

आपको साथ ही बता दें की इनमें से एक दोनों गंगनहरों के बीच सिंचाई विभाग की भूमि पर हजरत पीर ग़ैब अली शाह की दरगाह भी है। जिससे अकीदतमंदों की गहरी आस्था जुड़ी है। हजरत पीर गैब अली साहब के नाम से जाने जानी वाली दरगाह पर लोग अपने चेहरे या किसी और जगह पर निकल आये मस्सों से निजात पाने के लिए नमक और झाड़ू चढ़ा कर अपने लिए दुआ मांगते हैं। दरगाह साबिर पाक, इमाम साहब और दरगाह किलकिली साहब वक्फ बोर्ड में दर्ज है जबकि दरग़ाह पीर गैब अली शाह वक्फ बोर्ड में दर्ज नही हैं। इस दरगाह की देखरेख सैकड़ों सालों से पीढ़ी दर पीढ़ी महमूदपुर के कुछ निवासी करते आ रहे हैं।

 

 

 

 

 

 

रिपोर्ट: साक्षी सक्सेना

RELATED ARTICLES

“पुलिस चौकी या सीमेंट गोदाम?” जिस पर है एयरपोर्ट की सुरक्षा का जिम्मा, उस पुलिस चौकी के पास अपना भवन-जमीन तक नहीं; कही जाती...

cement warehouse or police post... उत्तराखंड में अगर कई पुलिस स्टेशन हो या चौकी अगर आप हालत देखेंगे तो यकीन नहीं कर पायेंगे की...

*शारदा नदी में आयोजित होने वाली अंतर्राष्ट्रीय रिवर राफ्टिंग प्रतियोगिता की तैयारी में जुटा प्रशासन* 

चंपावत जनपद के टनकपुर क्षेत्र के अंतर्गत बहने वाली शारदा नदी में आयोजित होने वाली अंतरराष्ट्रीय रिवर राफ्टिंग प्रतियोगिता की तैयारी जोर शोर के...

गजब” शराब के लिए जब नहीं थे पैसे तो सफाई कर्मचारी ने कबाड़ में बेच दीं सरकारी फाइलें, कई साल पुराने रिकॉर्ड हुए गायब;...

Cleaning worker sold government files for liquor... उत्तर प्रदेश से लगातार अजीबोगरीब खबरे सामने आती रहती है, और अगर बात करे सरकारी विभागों में...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

“पुलिस चौकी या सीमेंट गोदाम?” जिस पर है एयरपोर्ट की सुरक्षा का जिम्मा, उस पुलिस चौकी के पास अपना भवन-जमीन तक नहीं; कही जाती...

cement warehouse or police post... उत्तराखंड में अगर कई पुलिस स्टेशन हो या चौकी अगर आप हालत देखेंगे तो यकीन नहीं कर पायेंगे की...

लापरवाही” मां बाप सोते रहे गए गहरी नींद में और 6 महीने के बच्चे को जिंदा खा गए चूहे, बच्चा सो रहा था पालने...

Innocent child eaten alive by rats... अक्सर मां बाप की सजा बच्चों को भुगतनी पड़ती है, आज आपको एक ऐसी घटना बताने जा रहे...

“ये कैसा प्यार?” युवक को हुआ कार्टून कैरेक्टर से प्यार तो लाखों रुपए खर्च कर Doll” से कर ली शादी, बताई ऐसा करने की...

Young man married Gudiya... लोगों को आज कल हो क्या गया है, एक समय था जब भारत ने मांगलिक लोगों की शादी पेड़ से...

*शारदा नदी में आयोजित होने वाली अंतर्राष्ट्रीय रिवर राफ्टिंग प्रतियोगिता की तैयारी में जुटा प्रशासन* 

चंपावत जनपद के टनकपुर क्षेत्र के अंतर्गत बहने वाली शारदा नदी में आयोजित होने वाली अंतरराष्ट्रीय रिवर राफ्टिंग प्रतियोगिता की तैयारी जोर शोर के...

Recent Comments

Translate »